OEM और Retail:  जब कभी Windows के लिए license खरीदने की बात आती है तो कई अलग अलग चैनल है जिससे आप खरीद सकते है| जितने भी license मार्किट में available है उनमे से सबसे आम लाइसेंस का टाइप है OEM और Retail. Retail (FPP (Full Packaged Product)) है और  OEM (Original Equipment Manufacturer) है| हर एक windows का अपना license अग्रीमेंट होता है जो उसे एक खास राईट प्रोवाइड करता है और माइक्रोसॉफ्ट license अग्रीमेंट के आधार पे restrictions लगाता है|

आप ने जब भी operating system की ऑनलाइन शोपिंग की होगी तो ज़रूर ये टर्म्स आपके सामने आया होगा और आपने ये पाया होगा के कुछ चीप प्राइस पे windows  version  सेल में अवेलेबल है | इस बात में कोई शक नहीं है के इनमे से कुछ suspicious हो और  बाक़ी के कुछ legitimate हो| तो आएये जानते है के ये OEM, Retail जैसे versions आखिर है क्या और क्या हमें ये purchase करना चाहिए|

OEM और Retail के डिफरेंस

OEM एक्चुअली किसी भी windows का original version होता है और ये एक स्पेसिफिक PC के लिए ही मैन्युफैक्चरर द्वारा प्रोवाइड किया जाता है| इस version को हम उस स्पेसिफिक PC के अलावा दुसरे PC में ट्रान्सफर नहीं कर सकते है और न ही resell कर सकते है| OEM version जिस सिस्टम पे यूज़ होता है उसके  सिस्टम के हार्डवेयर में लॉक हो जाता है जिसकी वजह से हम यूज़ किसी दुसरे सिस्टम पे यूज़ नहीं कर सकते है|जबके retail की को हम multiple computer पे ट्रान्सफर कर सकते है|ये मैन्युफैक्चरर द्वारा प्रोवाइड नहीं किया जाता है इसे माइक्रोसॉफ्ट द्वारा फुल सपोर्ट प्रोवाइड किया जाता है|

OEM का फुल फॉर्म है original Equipment Manufacturer और ये ऐसा टर्म है जो PC बनाने वाली कंपनियों को लागू होती है। ये उस चीज़ पे कमेंट नहीं करता है के प्रोडक्ट कौन बना रहा है बलके ये बताता है के प्रोडक्ट किसको बेचा जाना है| OEM हार्डवेयर और सॉफ़्टवेयर को सिस्टम बनाने वाले कंपनियों के डिस्ट्रीब्यूशन के लिए पैक किया जाता है। ये कम्पनी original equipment manufacturers है| यही कारण है कि OEM प्रोडक्ट्स को आमतौर पर खुदरा पैकेजिंग के बजाय जेनेरिक बॉक्स या रैपर में बेचा जाता है

आप यहाँ से OEM Key खरीद सकते हैं

 

जबकि अधिकांश OEM versions पीसी पर प्रीइंस्टॉल किए होते हैं| तो आप इसे eBay or Kingui जैसे जगहों से लाइसेंस key के तौर पे खरीद सकते है| यह एक आम प्रैक्टिस है उन यूजर के लिए जो अपने खुद का गेमिंग पीसी बनाना चाहते हैं, या एक  second हैण्ड  डिवाइस को खरीदना चाहते हैं जिसमें कोई ओएस नहीं हो ,या जो पुराना हो।

 

OEM software हार्डवेयर के जितना कॉमन नहीं है|लेकिन बहुत से ऐसे प्रोडक्ट है जो अपने OEM version में अवेलेबल है, windows  इसका एक बेस्ट example है| लेकिन security suites, system utilities and productivity software  के भी OEM version है|जब आप इस सॉफ्टवेयर को खरीदते हैं तो आपको आमतौर पर केवल एक स्लीव प्रोवाइड किया जाता हैं जिसमें सॉफ़्टवेयर और लाइसेंस की होती है| लेकिन कुछ केसेस में आपको logo और कुछ documentation के साथ एक  छोटा कंटेनर मिलता है| डॉक्यूमेंटेशन की कमी इस एग्रीमेंट का हिस्सा है। असल में OEM सॉफ्टवेयर बिना किसी टेक सपोर्ट के आता है| यह सिस्टम मैन्युफैक्चरर द्वारा प्रोवाइड करवाया जाता है|और यदि सिस्टम निर्माता आप हैं, तो, आपको अपना टेक सपोर्ट प्रोवाइड करना होगा।

 

OEM सॉफ़्टवेयर आमतौर पर सिस्टम बेसिस पर लाइसेंस होता है|विंडोज का एक OEM version एक खास कंप्यूटर मैन्युफैक्चरिंग से जुडा होता है जिस पे आप इसे install करते है|माइक्रोसॉफ्ट में windows reactivation के लिए सिर्फ एक कॉल की ज़रुरत है| ये एक रिस्क है जो OEM प्रोडक्ट्स के साथ आप ले सकते है| ये ससता परता है पर आपको दूसरा software खरीदना पर सकता है अगर आप अपना computer बदलते है|

 

जहा तक यूज़ का सवाल है तो OEM और Retail में कोई अंतर नहीं है दोनों फुल version है ऑपरेटिंग सिस्टम का और वो सारे फीचर कन्टेन करते है जो के एक window करता है| suport और flexibility वो एरिया ही जहाँ पे ये अलग हो जाते है|

 

जब आप OEM कॉपी खरीदते है तो आप अपने डिवाइस की manufacturer का रोले प्ले करते है|इसका मतलब ये है के अगर आप हार्डवेयर कम्पेटिबिलिटी या एक्टिवेशन इशू से सम्बंधित इशू में पर जाते है तो ऐसे में आपको माइक्रोसॉफ्ट को कॉल करने पे कहा जा सकता है के आप अपने डिवाइस के मैन्युफैक्चरर से बात करें|

 

second डिफरेंस OEMऔर Retail में  ये है के कही से भी आप retail version ले रहे है आप उसे multiple computer में यूज़ कर सकते है लेकिन OES के साथ ऐसा नहीं है| अगर आप अपना हार्डवेयर बदलते है तो आपको नया Windows खरीदना परेगा क्योंकी OEM version नए सिस्टम पे Ractivate नहीं हो सकता है|

 

OEM और Retail version में OEM सॉफ्टवेयर रिस्की है पर फायदा का सौदा है| Windows 7 Home Premium $99 में अवेलेबल है जबके retail version $179.99 में जो के लगभग आधा है|यह एक बड़ा डिफरेंस है। यह संभव है कि यदि आप किसी इशू में पर जाते हैं तो आप परेशानी में पड़ सकते हैं, लेकिन आप ध्यान में रखे की आप कीमत का लगभग आधा भुगतान ही कर रहे हैं|

 

तो दोस्तों जब भी आप Windows खरीदने का सोचे तो OES और Retail की फीचर को ज़रूर ध्यान में रखे की कौन सा version आपके ज़रुरत को ज्यादा अच्छे से पूरा करेगा|